Posts

Showing posts from September, 2012

अलग हैं हमारी मुस्कानों की छवि

तुम्हारे अनुभवों में
शामिल नही है
मेरे अनुभव

अंतर है हमारी
सहनशीलता के बीच
पीड़ा के बीच

अलग हैं
हमारी मुस्कानों की छवि
एक मुस्कुराता है
दर्द में
और एक खुशी में

यहीं से अंतर आता है
हमारी सोच में
अपनी सोच के साथ
हम ठीक हैं
अलग -अलग

তুমি কি জানতে ..?

অনেক দিন হলো 
কথা নেই কোনো 
তুমি কি জানতে 
আমার মনের কথা মানতে 

বলতে পারিনি 
করি তোমারে প্রেম 
তাই হারিয়েছি 
বিশাস 
ঐকান্ত আপন মেনেছি 
তোমারে
তোমার নাম নিয়ে
ফেলবো আমি
শেষ নিশ্বাস ..