मौसम ऐसे ही बदलता है

सुखद यह है
कि कल-आज
कमी दर्ज किया है
मैंने, मेरे लिए
तुम्हारी बेचैनी में
मैं मान ले रहा हूँ
कि तुम्हें भी अब अहसास होने लगा है
अपनी नादानियों का |
....
मौसम ऐसे ही बदलता है ....
तुम्हारा कवि ......

Comments

Popular posts from this blog

तालाब में चुनाव (लघुकथा)

टार चिरैया - घुंघरू परमार की एक कविता

दिन की मर्यादा रात ही तो है